CHINTAN JAROORI HAI

जीवन का संगीत

171 Posts

982 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 14778 postid : 695901

जिंदगी में जीत का एहसास तो करो(कविता )(कांटेस्ट)

Posted On: 29 Jan, 2014 कविता,Contest में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

जिंदगी में जीत का एहसास तो करो
असफल ही सही एक नया प्रयास तो करो
प्रयासहीन जीवन में बस उतना ही पाते हैं
कर्म करने वाले जितना छोड़ जाते हैं
बुलंदियों को पाना इतना भी नहीं कठिन
आँख मूँद कर तनिक कयास तो करो
असफल ही सही एक नया प्रयास तो करो
जीवन ये सदा नहीं फूलों का सफ़र है
मिल जाती है इसमें कभी काँटों कि डगर है
यूं ही नहीं मिलता किसी को राज काज है
राम की तरह जरा वनवास तो करो
असफल ही सही एक नया प्रयास तो करो
पुष्प हो तुम्ही तो नवोदय के चमन के
रहनुमां तुम्ही तो हो अपने वतन के
पंछी तुम्ही तो हो इस उन्मुक्त गगन के
पर फैलाने का जरा अभ्यास तो करो
असफल ही सही एक नया प्रयास तो करो
चरों ओर जब अंधेरों का आभास है
ये समझ लो अब तो मंजिल आस पास है
शिखर पर पहुँचने वाले शेरपा तुम्ही तो हो
अपने इस विश्वास का विश्वास तो करो
असफल ही सही एक नया प्रयास तो करो



Tags:     

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

16 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

kavita1980 के द्वारा
February 15, 2014

बहुत सुंदर रचना आशा और आत्मविश्वास से ओत -प्रोत -

    deepakbijnory के द्वारा
    February 15, 2014

    dhanyawad aadarniya chetna ji kavita ki samiksha ke liye yoon hi apne students ke liye likhi thi

yamunapathak के द्वारा
February 4, 2014

सर जी आपके कई ब्लॉग आज पढ़े.इस कविता की पुनरावृति पंक्ति में गज़ब की प्रेरणा है. साभार

    deepakbijnory के द्वारा
    February 4, 2014

    AADARNIYA YAMUNA JI APKE BLOG PADTA HOON PAR COMMENT LIKHNE SE DARTA HOON KI KAHIN YE SURYA KO DIYA DIYA DIKHANE JAISA NA HO RAHI BAAT IS KAVITA KI YE TO MAINE APNE STUDENTS KE LIYE LIKHI THI

Nirmala Singh Gaur के द्वारा
January 31, 2014

पंक्षी तुम्ही तो हो इस उन्मुक्त गगन के ,पर फ़ैलाने का अभ्यास तो करो . ना उम्मीदों के अंधेरों में आशा के रंग बिखेरती कविता .अति सुंदर . बधाई दीपक जी , सादर निर्मल

    deepakbijnory के द्वारा
    January 31, 2014

    dhanyawad aadarniya nirmal जी अपना बहुमूल्य samay निकल कर ब्लॉग में आने के लिए

yogi sarswat के द्वारा
January 31, 2014

प्रेरणा देते सुन्दर शब्द श्री दीपक बिजनौरी जी !

    deepakbijnory के द्वारा
    January 31, 2014

    जिंदगी में जीत का एहसास तो करो KO PASAND KARNE AUR HAUSLA BADANE KE LIYE DHANYAWAD YOGI JI

narayani के द्वारा
January 31, 2014

नमस्कार दीपक जी बहुत सुंदर रचना , बहुत सुन्दर प्रेरक पंक्तियाँ . धन्यवाद नारायणी

    deepakbijnory के द्वारा
    January 31, 2014

    AADARNIYA NARAYANI JI जिंदगी में जीत का एहसास तो करो KO PASAND KARNE KE LIYE DHANYAWAD

vikaskumar के द्वारा
January 31, 2014

आशावाद से युक्त सुन्दर रचना .बधाई .

    deepakbijnory के द्वारा
    January 31, 2014

    dhanyawad aadarniya vikas kumar ji blog me aane tatha hausla badaane ke liye

January 30, 2014

बहुत सुन्दर प्रेरक पंक्तियाँ दीपक जी .

    deepakbijnory के द्वारा
    January 31, 2014

    धन्यवाद् शालिनी जी अक्सर लोग प्रयास से पहले ही हर मन जाते हैं

R K KHURANA के द्वारा
January 30, 2014

प्रिय दीपक जी बहुत सुंदर रचना ! हमें प्रयास तो करना ही पड़गा ! मैं तो कहता हूँ केवल प्रयास करो फल कि चिंता मत करो ! प्रयास करोगे तो सफलता भी मिलेगी ! प्रयास जरूरी है ! अच्छी रचना ! राम कृष्ण खुराना

    deepakbijnory के द्वारा
    January 31, 2014

    yahi sandesh bhagwadgeeta ka bhee hai blog me aane ke liye dhanyawad aadarniya ramkrishna ji


topic of the week



latest from jagran