CHINTAN JAROORI HAI

जीवन का संगीत

167 Posts

979 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 14778 postid : 708887

वृक्षारोपण [कविता](CONTEST)

Posted On: 25 Feb, 2014 कविता,Junction Forum,Contest में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

वृक्षारोपण

ख्वाहिशोँ को सीँच कर

सम्बल दिया

क्या कभी किसी पौधे

को भी जल दिया

सोचो जो साँसे

इस धरा से पायी हैँ

क्या कभी तुमने

इसे लौटायी हैँ

एक पौधा जो इस

धरा पर डाल देँ

उम्र न सही महज

पाँच वर्ष तक पाल देँ

शेष वर्ष वो

काम इतने आयेगा

इस जहाँ को

प्राणवायु लौटायेगा

धरती की कोख पर

एक नया सृजन होगा

महज एक दो रोज नहीँ

पीढीयोँ तक दान

ऑक्सीजन होगा

दीपक पाण्डे नैनीताल



Tags:         

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (7 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

32 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

    deepakbijnory के द्वारा
    March 5, 2014

    dhanyawaad aadarniya yogi jee sarahna karne ke liye

gopesh के द्वारा
March 4, 2014

बहुत ही सुंदर अभिव्यक्ति

    deepakbijnory के द्वारा
    March 5, 2014

    dhanyawaad aadarniya gopesh tiwari jee

sanjeevtrivedi के द्वारा
March 3, 2014

दीपक जी आपको सादर नमन है बहुत सुन्दर कविता आपकी…

    deepakbijnory के द्वारा
    March 3, 2014

    dhanya waad aadariya sanjeev jee blog me aane ke liye aabhar sadar naman

gopesh के द्वारा
March 3, 2014

बहुत सुन्दर भावाभिव्यक्ति ,,,,, आपका बहुत बहुत आभार

    deepakbijnory के द्वारा
    March 3, 2014

    dhanyawaad aadarniya gopesh jee

yamunapathak के द्वारा
March 3, 2014

दीपक जी बहुत अच्छे सन्देश के साथ एक सुन्दर कविता के लिए बधाई साभार

    deepakbijnory के द्वारा
    March 3, 2014

    aadarniya yamuna jee blog me aane hetu sadar naman apke margdarshan ka aabhaari rahoonga

Nirmala Singh Gaur के द्वारा
March 2, 2014

दीपक जी आपने छोटी सी कविता में बहुत कुछ कह दिया ,बहुत उम्दा रचना ,सादर बधाई .

    deepakbijnory के द्वारा
    March 3, 2014

    nirmala jee ye sab aap ka hee protsahan hai jo me chhoti hee sahee par kavita likh paata hoon hausla badane ke liye dhanyawad

jlsingh के द्वारा
March 2, 2014

वाह वाह दीपक जी यह कविता मेरी नजरों से छूट गयी थी …बहुत सुन्दर ..सादर!

    deepakbijnory के द्वारा
    March 3, 2014

    aadarniya j l singh jee aapka tahe dil se shukriya apna bahumulya samay nikalkar kavita padne hetu

ikshit के द्वारा
March 2, 2014

सीधे शब्दों में अति सुन्दर सोच @@@ इच्छित !

    deepakbijnory के द्वारा
    March 2, 2014

    DHANYAWAAD AADARNIYA ICHCHHIT JEE BLOG ME AANE AUR HAUSLA BADANE KE LIYE SADAR NAMAN

rekhafbd के द्वारा
March 2, 2014

सुन्दर रचना दीपक जी ,बधाई

    deepakbijnory के द्वारा
    March 2, 2014

    dhanyawaad aadrniya rekha jee

sadguruji के द्वारा
March 1, 2014

इस जहाँ को प्राणवायु लौटायेगा धरती की कोख पर एक नया सृजन होगा महज एक दो रोज नहीँ पीढीयोँ तक दान ऑक्सीजन होगा

    deepakbijnory के द्वारा
    March 2, 2014

    DHANYAWAAD AADARNIYA SADGURU JEE APKE AASHIRWWAAD KE LIYE SADAR NAMAN

basantkumar के द्वारा
February 28, 2014

सही ज्ञान -पर  क्या करे इंसान  - आदत से मजबूर -नशे में चूर-बगिया में कुटिया नहीं-टाईल्स का महल बनायेगे- जगह नहीं मिट्ठी को तो क्या-प्लास्टिक के फूल लगायेगे–प्रणाम स्वीकार करे——-

    deepakbijnory के द्वारा
    March 2, 2014

    DHANYAWAAD AADARNIYA BSANT KUMAR JEE UCHIT COMMENT TATHA MANTHAN KE LIYE KOTI KOTI DHANYAWAAD

adityaupadhyay के द्वारा
February 28, 2014

बीज बोये थे हमने कभी , अब बन गए है विशाल वृक्ष सभी , क्या सोचा था ?? काटेंगे कभी ? धन्यवाद सर , बहुत बड़ा सन्देश दिया है आपने इन चंद पंक्तियों में..आभार

    deepakbijnory के द्वारा
    February 28, 2014

    dhanya waad aadarniya upadhyay ji sarthak tippani par dhanyawaad

उल्लेखनीय! सुंदर संदेशपूर्ण प्रस्तुति हेतु बधाई..सादर..

    deepakbijnory के द्वारा
    February 28, 2014

    DHANYAWAD AADARNIYA SHILPA JI HAUSLA BADANE KE LIYE

kavita1980 के द्वारा
February 26, 2014

बहुत सुन्दर और सार्थक कविता  बधाई Permalink: http://kavita1980.jagranjunction.com/2014/02/22/वैलेंटाइन-डे-आफ्टर-इफेक्/

    deepakbijnory के द्वारा
    February 26, 2014

    dhanyawaad adarniya kavita ji blog me aane ke liye

ranjanagupta के द्वारा
February 26, 2014

दीपक जी !बहुत बहुत बधाई ,यदि हम सब जागरूक होंगे ,तो धरती का फिर से जीवन लौट सकेगा !!

    deepakbijnory के द्वारा
    February 26, 2014

    dhanyawaad aadarniya ranjana jindagi me kam se kam ek ped to lagana chahiye

sanjay kumar garg के द्वारा
February 26, 2014

आदरणीय दीपक जी, सादर नमन! “वृक्षारोपण” की महिमा की सुन्दर काव्यमय प्रस्तुति के लिए बधाई!

    deepakbijnory के द्वारा
    February 26, 2014

    dhanyawaad aadarnia sanjay ji jo apne vriksharopan ko saraha paryavaran ki khatir mera chhota sa prayas tha ye


topic of the week



latest from jagran