CHINTAN JAROORI HAI

जीवन का संगीत

166 Posts

979 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 14778 postid : 712758

नारी तू नारायणी ( कविता )(महिला दिवस पर विशेष )

Posted On: 5 Mar, 2014 कविता,Junction Forum,Special Days में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

नारी तू नारायणी क्यूँ इस जहाँ से डर रही
तू ही जीवनदायिनी क्यूँ मरने से पहले मर रही

आज सियासत मेँ सुरसा ताडका ने ही वास किया
खूनी बलात्कारी को हमेशा उन्होने ही माफ किया

हर बार यूँ ही कत्ल होगी यूँ ही सहती जायेगी
दुर्गा सती काली चंडी को शर्म तुझ पर आयेगी

जब तेरा ही जिस्म तेरे कत्ल का कारण बने
प्रचँड रुप धर आक्रमण करना तेरा ये ही प्रण बने

तुझ से जीत जाने का यम ने भी न साहस किया
शिव भी चरण के नीचे थे जब तूने अट्टाहस किया

उठती थी तुझ पर निगाहेँ आज वो झुकने लगे
तोड दे उस हाथ को जो तेरी ओर बढने लगे

न किसी पर कर भरोसा खुद ही चंडी रूप धर
हाथ जो जिस्म पर उठे काट दे भूमी पे धर
दीपक पण्डे नैनीताल



Tags:       

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 4.75 out of 5)
Loading ... Loading ...

56 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

jlsingh के द्वारा
July 23, 2014

बहुत सुन्दर प्रेरक और जोशीली कविता …मैंने आज पढ़ी …वैसे मैंने भी लिखी थे नारी शक्ति जाग जाओ.लिंक दे रहा हूँ …http://jlsingh.jagranjunction.com/2013/01/14/%E0%A4%A8%E0%A4%BE%E0%A4%B0%E0%A5%80-%E0%A4%B6%E0%A4%95%E0%A5%8D%E0%A4%A4%E0%A4%BF-%E0%A4%9C%E0%A4%BE%E0%A4%97-%E0%A4%9C%E0%A4%BE%E0%A4%93/

sadguruji के द्वारा
June 14, 2014

बहुत प्रेरक और सार्थक रचना ! आपको बहुत बहुत बधाई !

    deepak pande के द्वारा
    June 14, 2014

    dhanyawaad aadarniya sadguru jee sab aap hee kaa aasheerwaad hai

pkdubey के द्वारा
May 29, 2014

बहुत सशक्त रचना सर. शिव भी चरण के नीचे था ,जब तूने अट्ठाहस किया.

    deepak pande के द्वारा
    June 3, 2014

    dhanyawaad aadarniya dubey jee aapka blog me hardam swaagat hai

niharika77 के द्वारा
March 14, 2014

bahut hi sundar krati .

    deepak pande के द्वारा
    March 15, 2014

    dhanyawaad aadarniya niharika jee kavita pasand karne aur blog me aane ke liye koti koti dhanyawad

Acharya Vijay Gunjan के द्वारा
March 12, 2014

बड़ी पैनी और धारदार ! दीपक जी बधाई !!

    deepak pande के द्वारा
    March 12, 2014

    DHANYAWAAD AADARNIYA VIJAY JEE YE SAB AAP VIDWANON KI HEE SANGATI KA ASAR HAI VARNA MAIN TO KUCH BHEE NAHEE

meenakshi के द्वारा
March 11, 2014

अति सुन्दर प्रेरणाप्रद और प्रेरक भी , आपको इस बेहतरीन रचना के लिए बहुत २ बधाई . मीनाक्षी श्रीवास्तव

    deepak pande के द्वारा
    March 12, 2014

    dhanyawaad aadarniya meenakshi jee prernapra protsahan ke liye

rashmijindal के द्वारा
March 11, 2014

Deepak JI: Sadar pradam .Mahila divas par ek purush ke ese wichar dekhkar achha laga saath hi saath vishvas bdhne laga hai ki ab naari swayam ke liye zarur aawaz uthaayegi. Thank you for writing this poem.

    deepak pande के द्वारा
    March 11, 2014

    thanks aadarniya rashmi jee blog me aane tatha kavita par manthan ka shukriya

बहुत ही प्रेरक अभिव्यक्ति सुदर भावों से परिपूर्ण सादर..नमन

    deepakbijnory के द्वारा
    March 10, 2014

    DHANYAWAAD AADARNIYA SHILPA JEE KAVITA KO PROTSAHAN DENE KE LIYE

Alka के द्वारा
March 9, 2014

दीपक जी , सुन्दर ,रचना | आज के परिप्रेक्षय में नारी को माँ दुर्गा के हर रूप की आवश्यकता है |तभी वो आगे बढ़ सकती है | बधाई ..

    deepakbijnory के द्वारा
    March 10, 2014

    DHANYAWAAD AADARNIYA ALKA JEE AAJ NARI KO KISI AUR PAR BHAROSA NA KARKE KHUD MORCHA SAMBHALNA HOGA

vaidya surenderpal के द्वारा
March 7, 2014

बहुत ही सुन्दर,सारगर्भित कविता दीपक जी, बधाई.

    deepakbijnory के द्वारा
    March 8, 2014

    dhanyawaad aadarniya surendrapal jee jo aapne kavita ko pasand karke rachna aur blog ka maan badaya sadar naman

kavita1980 के द्वारा
March 7, 2014

सोच रही हूँ दीपक जी की क्या लिखूँ -कविता अच्छी है, भाव पूर्ण है ,ओजस्वी है -परंतु क्या आज भी औरत अपनी देह से ऊपर कुछ नही य़औरत के विषय में जो भी लिखा या पढ़ा जाता है ,हमेशा उसमें उसकी दैहिक शुचिता ही वर्णित होती है ,क्या अपनी शारीरिक सुरक्षा ही सबसे जरूरी है स्त्री के लिए –

    deepakbijnory के द्वारा
    March 7, 2014

    AADARNIYA KAVITA JEE AAP SAHEE HAIN PARANTU AAJ KI SACHCHAI YAHEE HAI AAJ T V MEDIA SABHEE JAGAH NAARI KO DEH KE RUP ME TO PRASTUT KIYA JAATA HAI YA NAARI KHUD KO ISI RUP ME PRASTUT KARTI HAI YAHEE SACHCHAI HAI VARNA KALPNIK TO MAIN BHEE BAHUT ACHCHA LIKH SAKTA HOON PARANTU YAH KAVITA DAMINI RAPE KE SAMAY LIKHI THI VAQT KE HISAB SE HEE LIKHNA HOTA HAI JO SACH HAI WAHEE BURA LAGE TO KSHMA KA PRARTHI HOON

basantkumar के द्वारा
March 7, 2014

शब्द नहीं सुन्दरता बयान करने के लिए……..

    deepakbijnory के द्वारा
    March 7, 2014

    dhanyawaad aadarniya basant jee ye to aapka badappan hai ek sarvagunsampann vyakti hee kisi kee tareef kar sakta hai

Ritu Gupta के द्वारा
March 7, 2014

खूबसूरत दिल को छू लेने वाली कविता

    deepakbijnory के द्वारा
    March 7, 2014

    dhanyawaad aadarniya ritu jee kavita ko pasand karne hetu koti koti dhanyawaad sadar naman

सौरभ मिश्र के द्वारा
March 7, 2014

सुन्दर रचना

    deepakbijnory के द्वारा
    March 7, 2014

    dhanyawaad aadarniya saurabh jee

    deepakbijnory के द्वारा
    March 7, 2014

    jee haan yogi jee main nainital me hoon pehle main bijnor me tha wahan logon se itna pyar paaya ki blog ka naam deepakbijnory rakh diya

nishamittal के द्वारा
March 7, 2014

सुन्दर भावपूर्ण

    deepakbijnory के द्वारा
    March 7, 2014

    धन्यवाद आदरणीय निशा जी कविता को प्रोत्साहन देने के लिए धन्यवाद

ranjanagupta के द्वारा
March 7, 2014

अच्छी भावनात्मक कविता !दीपक जी बधाई !!

    deepakbijnory के द्वारा
    March 7, 2014

    DHANYAWAAD AADARNIYA RANJANA JEE कविता की भावनाएं समझने के लिए शुक्रिया

abhishek shukla के द्वारा
March 6, 2014

मार्मिक…किन्तु अंतर्मन पर छाप छोड़ने वाली….सादर नमन सर!

    deepakbijnory के द्वारा
    March 7, 2014

    aadarniya abhishek kavita ko padne tatha us par manthan karne ke liye shukriya

March 6, 2014

बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति .बधाई .

    deepakbijnory के द्वारा
    March 7, 2014

    dhanyawaad aadarniya shalini kaushik jee jo apne nari too narayani ko samman diya

RAJ KISHOR MISHRA के द्वारा
March 6, 2014

वाह दीपक भाई क्या गजब की कविता है ,, जो नित बहती वह सरिता है ,,,, http;//rajmishra.jagranjunction.com

    deepakbijnory के द्वारा
    March 6, 2014

    DHANYAWAAD RAJ KISHOR JEE

RAJ KISHOR MISHRA के द्वारा
March 6, 2014

ajmishra.jagranjunction.com/2013/09/22/नारद-की-हो-गयी-छुट्टी/ बहुत बढ़िया कविता के लिए बधाई दीपक जी

    deepakbijnory के द्वारा
    March 6, 2014

    DHANYAWAAD AADARNIYA RAJ SAHAB BLOG ME AANE KA DHANYAWAAD SADAR NAMAN

aditya upadhyay के द्वारा
March 6, 2014

नारी तू शक्ति का प्रतीक है , तुझमे ज्वलंत अग्नि सा तेज है …. फिर कहाँ ये ज्वाला बुझ जाती है ,तू जहाँ हार जाये वहाँ, कहाँ किसी की जीत है ..नारी वास्तव में तू नारायणी है .. सर , बहुत सुन्दर पंक्तियाँ रची है आपने ..धन्यवाद नारी को नारी की वास्तिविकता से पहचान कराने का … बहुत धन्यवाद

    deepakbijnory के द्वारा
    March 6, 2014

    dhanyawaad aadarniya aaditya jee koti koti dhanyawaad

PAPI HARISHCHANDRA के द्वारा
March 6, 2014

न चढ़ाओ सर इतना ,भुगतना तुम्हीं ने है हे नर ,तुम तो सिर्फ नर हो नारायणी तो नवाक्षरी नव देवी ही है दीपक जी सुन्दर अभिव्यक्ती बधाई

    deepakbijnory के द्वारा
    March 6, 2014

    blog me aane ke liye dhanyawaad aadarniya harishchandra jee kavita par manthan hetu koti koti dhanyawaad

sanjay kumar garg के द्वारा
March 6, 2014

“तुझ से जीत जाने का यम ने भी न साहस किया शिव भी चरण के नीचे थे जब तूने अट्टाहस किया” अच्छी अभिव्यक्ति, आदरणीय दीपक जी! साभार!

    deepakbijnory के द्वारा
    March 6, 2014

    DHANYAWAAD AADARNIYA SANJAY GARG JEE PROTSAHAN KE LIYE YOON HEE BLOG PAR PADHARTE RAHIYE SADAR NAMAN

Nirmala Singh Gaur के द्वारा
March 5, 2014

शिव भी चरण के नीचे थे जब तूने अट्टहास किया ,नारी के मनोबल को सशक्त करतीं पंक्तियाँ,सम्पूर्ण कविता अद्वतीय ,सादर बधाई दीपकजी .

    deepakbijnory के द्वारा
    March 6, 2014

    dhanyawaad aadarniya nirmala jee aap blog me aayee protsahan mila isee prakar har baar asheerwaad pradan karein aur margdarshan karein sadar naman deepak pande

yamunapathak के द्वारा
March 5, 2014

दीपक जी इस कविता में भावनाएं बहुत प्रखरता से मुखर हुई हैं. साभार

    deepakbijnory के द्वारा
    March 5, 2014

    dhanya waad aadarniya yamuna jee ye kavita maine dilli me daminee case ke samay mahila kee khatir likhi thee yamuna jee aapka comment mujhme ek alag prerna bhar deta hai sadar naman

kavita1980 के द्वारा
March 5, 2014

बहूत सुंदर और प्रभावशाली रचना दीपक जी  बधाई

    deepakbijnory के द्वारा
    March 5, 2014

    DHANYAWAAD AADARNIYA KAVITA JEE HAUSLA BADNE KE LIYE

deepak pande के द्वारा
July 24, 2014

aadarniya aapkee ye kavita jaroor padunga


topic of the week



latest from jagran