CHINTAN JAROORI HAI

जीवन का संगीत

166 Posts

979 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 14778 postid : 738221

बदनाम होते होते हम मशहूर हो गये(ग़ज़ल)

Posted On: 4 May, 2014 Others,कविता,Junction Forum में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

अपने ही इस अहं मेँ यूँ चूर हो गये ।

अपनोँ से अपने आप ही हम दूर हो गये ॥

जिन दरख्तोँ के साये मेँ बीता था ये बचपन ।

उन दरख्तोँ को काटने को हम मजबूर हो गये ॥

जिन्दगी तुझे अपने अन्दाज मैँ जीने चले थे हम ।

खुद जिन्दगी के फैसले मन्जूर हो गये

अपनो ने अपने आप ही इतने दिये जखम ।

रिसते हुए वो जख्म भी नासूर हो गये ॥

बन्दगी मेँ तेरी ए खुदा इतने हुए बदनाम ।

बदनाम होते होते हम मशहूर हो गये ॥

दीपक पाण्डेय



Tags:     

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 4.50 out of 5)
Loading ... Loading ...

8 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

kavita1980 के द्वारा
May 7, 2014

सच है दीपक जी युवावस्था के जोश में हर व्यक्ति दुनिया औसमाज को बदलने के आदर्श रखता है कब और कहाँ ज़िंदगी खुद को बदल देती है पता ही नही चलता

    deepak pande के द्वारा
    May 7, 2014

    dhanyawaad aadarniya kavita jee jo aapne kavita me chhipi meri bhavnaon ko samjha aur manan karke comment diya

Nirmala Singh Gaur के द्वारा
May 4, 2014

अपने ही इस अहम में यूँ चूर हो गए ,अपनो से अपने आप ही हम दूर हो गए ,बहुत बड़ा सच दीपक भाई –अहंकार ही रिश्तों में दरार डालता है ,इतनी अच्छी रचना के लिए बहुत बधाई .

    deepak pande के द्वारा
    May 5, 2014

    धन्यवाद आदरणीय निर्मला जी मैंने तो अपने ही रिश्तों में जो महसूस किया उसे कविता का रूप दे दिया मेरी भावनाओं को समझ सकने तथा कविता पर मंथन के लिए धन्यवाद आपकी टिप्पणी मेरे लिए प्रेरणा स्रोत है सादर

May 4, 2014

अपनो ने अपने आप ही इतने दिये जखम । रिसते हुए वो जख्म भी नासूर हो गये ॥ bahut sahi likha hai deepak ji .

    deepak pande के द्वारा
    May 5, 2014

    धन्यवाद AADARNIYA शालिनी जी ब्लॉग में आने और ग़ज़ल पर मंथन के लिए

ranjanagupta के द्वारा
May 4, 2014

बदनाम होते होते मशहूर हो गये..बहुत ही सुन्दर !!

    deepak pande के द्वारा
    May 4, 2014

    dhanyawaad aadarniya ranjana jee meri gazal par aapkee tippanee mere liye bahut mahatvapurn hai dhanyawaad sadar


topic of the week



latest from jagran