CHINTAN JAROORI HAI

जीवन का संगीत

171 Posts

982 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 14778 postid : 764692

उस रात कैसा खौफप्रद मंज़र रहा होगा (लखनऊ गैंगरेप केस )

  • SocialTwist Tell-a-Friend

उस रात कैसा खौफप्रद मंज़र रहा होगा
वो खुदा भी ये सोच कर के डर रहा होगा
…………………………………………….
उन वहशियों ने उस माँ को इतने दिए जखम
ये देख कर यम भी कांपता थर थर रहा होगा
………………………………………………..
इंसान भी अब नोंच कर खाने लगे हैं जिस्म
गिद्धराज भी ये सोच अचरज कर रहा होगा
………………………………………………….
यमदूत भी उसकी जां को लेने आया जब होगा
हस्र नारी का देख अश्रु नयन में भर रहा होगा
………………………………………………………
इस जहाँ में औरत को कौन महफूज़ है जगह
खुद जाने वतन का कौन सा वो दर रहा होगा
………………………………………………….
ये दरिंदे मेरे द्वारा गड़ी तस्वीर का ही नतीजा हैं
ये सोच मुसव्विर नज़रों में अपनी गिर रहा होगा
………………………………………………………..
भविष्य में दरिंदों की माफीनामे की खातिर
कानून भी रहम की लगा चादर रहा होगा
…………………………………………………
नग्नता की नग्न तस्वीर ले ना आयी उसे शरम
शर्म को भी शर्मसार वो इन्सां कर रहा होगा
…………………………………………………..
इस कृत्य का फांसी से अब होगा नहीं इलाज़
तज़ुर्बा कानूनविदों का ये ढिंढोरा कर रहा होगा
………………………………………………

दीपक पाण्डेय
जवाहर नवोदय विद्यालय
नैनीताल



Tags:     

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

8 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

    deepak pande के द्वारा
    July 21, 2014

    aadarniya vandana jee kuchh comment bhee to likhiye

Shobha के द्वारा
July 20, 2014

पाण्डेय जी आपकी कविता ने रोंगटे खड़े कर दिए इससे आगे सब कहना बेकार है शोभा

    deepak pande के द्वारा
    July 21, 2014

    kya karoon shobha jee jagran ke social blog kee tasveeron ne atma ko ita jhakjhor diya ki ye sab likhne ko majboor kar diya

nishamittal के द्वारा
July 20, 2014

मार्मिक भावपूर्ण प्रस्तुति दीपक पांडे जी

    deepak pande के द्वारा
    July 20, 2014

    lucknow case ne itna vichlit kar diya ki kavita me marm to aana hee tha aadarniya nisha jee saadar aabhaar

jlsingh के द्वारा
July 19, 2014

इस कृत्य का फांसी से अब होगा नहीं इलाज़ तज़ुर्बा कानूनविदों का ये ढिंढोरा कर रहा होगा बिलकुल सही कहा है आपने ..कानून अभी भी सबूत और संदेह ढूंढता रहेगा … हैवान अपनी हैवानियत का जश्न मन रहा होगा. अब भी हम नहीं जगे तो इस धरती पर माँ लड़की को पैदा होने ही नहीं देगी…

    deepak pande के द्वारा
    July 20, 2014

    आदरणीय जवाहर जी धन्यवाद तो नहीं कहूँगा बस कल सोशल ब्लॉग में वो नग्न तस्वीर देख आत्मा को हिला कर रख दिया और लिखने को मजबूर कर दिया समझ नहीं आता पत्रकार को वो नग्न तस्वीर दिखानी जरूरी थी क्या समाज इतना गिर चूका है की मरने के बाद भी उस नारी पर एक चादर dalkar फोटो लेना मुनासिब न समझा चलो वो तो दरिंदे थे पर वो फोटो खींचनेवाले सब पुरुषप्रधान समाज कोई संवेदना ही नहीं काम se काम उस मृत नग्न शरीर के साथ


topic of the week



latest from jagran