CHINTAN JAROORI HAI

जीवन का संगीत

171 Posts

982 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 14778 postid : 853571

धरती की कोख पर चंद नए पौधे लगाता है

Posted On: 17 Feb, 2015 कविता,Junction Forum,Hindi News में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

न तो दान ही करता है ,न ही शौक ए बन्दगी
धरती की कोख पर चंद नए पौधे लगाता है
…………………………………………

संबंधों का उसने कुछ बढ़ाया है दायरा
अजनबी दुनिया से नए रिश्ते बनाता है
……………………………………………….

न देखता है कोई स्वप्न न ही पूर्णता की ख्वाहिश
आने वाली नस्लों की खातिर नए सपने सजाता है
……………………………………………………..

जिनको गुल की है चाहत ,आरज़ू गुलाब की
उनको काँटों की राहों पे चलना सिखाता है
………………………………………………

यही निवेश है उसका यही व्यापार है उसका
भावनाओं की चन्द नयी कलमें बनाता है
…………………………………………………..

न तो भूत का ही भ्रम ,न भविष्य की चिंता
वर्तमान में गाता है शब्दों को सजाता है

दीपक पाण्डेय
नैनीताल



Tags:     

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

10 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

yamunapathak के द्वारा
February 24, 2015

दीपक जी जिनको गुल की है चाहत ,आरज़ू गुलाब की उनको काँटों की राहों पे चलना सिखाता है अनोखी सी है यह पंक्ति सम्पूर्ण भाव अत्यंत सुन्दर साभार

    deepak pande के द्वारा
    February 25, 2015

    aadarniya yamuna jee iska arth hai jo jindagee में गुलाब सा सुख चाहता है उसे वो यानि अध्यापक काँटों पर चलना सिखाता है अर्थात जिंदगी में सफलता की राहों में आने वाली कठिनायों से जूझना सिखाता है ब्लॉग में टिप्पणी हेतु धन्यवाद आपकी टिप्पणी ही मेरा प्रोत्साहन है

jlsingh के द्वारा
February 19, 2015

सुन्दर रचना, पाण्डे जी!

    deepak pande के द्वारा
    February 20, 2015

    ोो् आदरणीय जवाहर जी प्रणाम प्रोत्साहन के लिए धन्यवाद

surendra shukla bhramar5 के द्वारा
February 19, 2015

PANDEY JI BAHUT SUNDAR BHAV …SAPNE SAJTE RAHEN …LOG AANKHEN KHOLEN यही निवेश है उसका यही व्यापार है उसका भावनाओं की चन्द नयी कलमें बनाता है

    deepak pande के द्वारा
    February 19, 2015

    blog me aane aur protsahan ke liye hardik dhanyawaad aadarniya surendra bhramar jee

Santlal Karun के द्वारा
February 18, 2015

आदरणीय पाण्डेय जी, नए कथ्य और नवीन भाव-बोध के साथ स्वस्थ रचना के लिए हार्दिक साधुवाद एवं सद्भावनाएँ !

    deepak pande के द्वारा
    February 18, 2015

    BLOG ME PADHARNE KE LIYE SADAR DHANYAWAAD AADARNIYA KARUN JEE

pkdubey के द्वारा
February 18, 2015

सच है आदरणीय |सादर |

    deepak pande के द्वारा
    February 18, 2015

    TIPPANI KE LIYE DHANYAWAAD SADAR DUBEY JEE


topic of the week



latest from jagran