CHINTAN JAROORI HAI

जीवन का संगीत

167 Posts

981 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 14778 postid : 1313908

ज़हर की खेती

Posted On: 12 Feb, 2017 Junction Forum में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

आज मैं आपके समक्ष एक ऐसे ज़हर का वर्णन करना चाहूँगा जो कि इस पृथ्वी पर अजर अमर है और अनंत काल तक विद्यमान रहने वाला है और मुख्य बात तो यह है कि प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से हम इसके आदि भी हो चुके हैं
इस ज़हर का नाम है पॉलिथीन चूंकि इसका निर्माण रसायन विज्ञानं में एथीन के पॉलीमराइज़ेशन के द्वारा किया जाता है अतः इसका नाम पॉलिथीन रखा गया इसका मुख्य अवगुण यह है कि यह वातावरण में छोड़ दिए जाने पर हज़ारों साल तक अपघटित नहीं हो पाती तथा अनंत काल तक के लिए एक चिरस्थाई कूड़े का रूप धारण कर लेती है यदि इसे समाप्त करने के लिए जलाया जाय तो कई प्रकार की ज़हरीली गैसों को छोड़कर वायु को प्रदूषित करती है मिटटी में रहकर यह मृदा प्रदूषण का कारण बनती है इसके मिटटी में मिल जाने से धरती में उपस्थित पानी धरती के अंदर नहीं जा पाता तथा मिटटी की भी उर्वरा शक्ति धीरे धीरे कम होती जाती है इसकी वजह से अक्सर नालियों का प्रवाह रुक जाता है और सड़क पर गन्दगी प्रवाहित होने से रोग फैलने का खतरा बना रहता है नदियों के शुद्ध जल में मिलकर यह जल प्रदूषण का भी कारण बनती है
आजकल तो इसमें खाने पीने की चीज़ भी रखी जाने लगी हैं तथा डॉक्टरों ने भी यह शोध किया है कि एक निश्चित तापमान के पश्चात् भोजन इसके संपर्क में आने पर यह कुछ विषैले रसायन छोड़ती है जिनसे शरीर में कैंसर भी हो सकता है
अब सवाल यह पैदा होता है कि इन सब हानि के बावज़ूद भी हम इसका उपयोग क्यूँ करते हैं या यूं कहिये कि हम इसके उपयोग के आदि हो चुके हैं कि इससे होने वाले नूकसान को भी नज़र अंदाज़ करने लगे हैं और सरकार भी इस भयावह सच से अनभिज्ञ होकर बैठी है यदा कदा कुछ प्रांतीय सरकारों ने इसके प्रयोग पर प्रतिबन्ध लगाया है परंतु इसके उत्पादन पर ही प्रतिबन्ध क्यूँ नहीं क्यूंकि जब तक उत्पादन होता रहेगा प्रयोग तो होगा ही
अब कुछ विचार इस समस्या के निदान पर किया जाय इस समस्या का हल स्वयं सरकार के पास है सरकार को इस ज़हर के उत्पादन पर ही पूर्णतः प्रतिबन्ध लगा देना चाहिए इससे हमारे देश की कूड़े की समस्या का भी लगभग निदान हो जायेगा क्यूंकि इस देश में बिखरे कूड़े में सबसे ज्यादा प्रतिशत इस कभी न अपघटित होने वाले पॉलिथीन का है
यदि सरकार द्वारा यह कदम नहीं उठाया जाता तो हमें स्वयं ही आगे आना होगा और इसे उपयोग में ना लाने की कसम खानी होगी
याद कीजिये वह समय जब पॉलिथीन नहीं बनी थी तब भी हमारे सारे कार्यकलाप होते ही थे हमारी एक आदत थी बाजार जाते समय हमारे कन्धों में एक झोला हुआ करता था दूध लेने जाते समय सबके हाथों में एक स्टील का बर्तन (डोलची ) हुआ करती थी हमें फिर उसी आदत को वापस अपनाना होगा और कम से कम खुद को तो इसके प्रयोग से रोकना होगा
पॉलिथीन के बजाय जूट के थैलों के प्रयोग को बढ़ावा देना होगा इससे फायदा यह होगा की देश में जूट के थैलों के उत्पादन से लघु एवम कुटीर उद्योगों को बढ़ावा मिलेगा और इन उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए सरकार को ग्रामीणों को विशेष सब्सिडी भी देनी चाहिए इससे गांव में ही ग्रामवासियों को रोज़गार मिलेगा तथा बेरोज़गारी की समस्या का भी निदान होगा
पुराने कपड़ों के थैलों को बनाने को भी एक लघु उद्योग के रूप में लिया जा सकता है इससे रीसाइकिल की परंपरा बढ़ेगी तो आओ आज ही यह प्रण करें लें कि हम कपडे या जूट के बने थैलों का प्रयोग करेंगे तथा इस एक भी पॉलिथीन का प्रयोग कर इस धरती पर कभी ख़त्म ना होने वाले इस कूड़े का निर्माण नहीं करेंगे तथा एक नई निरोग मानवता की नींव रखेंगे
अंत में अपनी कविता के साथ इसका समापन करना चाहूँगा

फ़िज़ाओं में घुल रहा कैसा ये ज़हर है
इसकी चपेट में हर एक गांव शहर है
हर एक जन इसका ही आदि हो गया
इसके ही प्रयोग का फरियादी हो गया
प्रण करो अब इसका कोई साथ न देंगे
इसके प्रसार में अपना कोई हाथ न देंगे
मानव ने इसे बनाया मानव ही मिटाएगा
नए निर्माण से इससे निज़ात दिलाएगा

दीपक पाण्डे
जवाहर नवोदय विद्यालय
नैनीताल



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran